मुख्य विषयवस्तु में जाएं
none

अपने बच्चे को नहलाना

नहलाने का समय आपके बच्चे के स्वास्थ्य और स्वच्छता के लिए बहुत महत्व रखता है।

पहली बार बच्चे के स्पंज और टब बाथ के लिए सहायता

चाहे आप स्पंज बाथिंग करा रही हैं या अपने बच्चे को नहलाने के लिए बेबी बाथ या टब का इस्‍तेमाल कर रही हैं, नहलाने का समय आपके बच्चे के स्वास्थ्य और स्वच्छता के लिए बहुत महत्व रखता है। यह बहुत मजेदार भी  होता है।

नहलाने के समय के लिए तैयार?

बच्चे रबड़ की बत्तख की तरह पानी में नहाना पसंद करते हैं। एक रूटीन बना लें। कमरे का तापमान आरामदायक बनाएँ क्योंकि बच्चे का शरीर जल्दी ठंडा हो जाता है और इसका ध्‍यान रखें कि आपके आपके पास वह हर चीज है जो आपको चाहिए।

अपने बच्चे को स्पंज बाथिंग देना 

जब तक कि गर्भनाल का स्टंप ठीक नहीं हो जाता है, आप अपने बच्चे को ‘स्पंज’ बाथ देना पसंद कर सकती हैं। इसमें आमतौर पर एक सप्ताह से दस दिनों तक का समय लगता है, लेकिन गर्भनाल का स्टंप आठ सप्ताह तक जुड़ा रह सकता है।

गर्म रखने के लिए एक तौलिए में लपेटकर और स्पंज क्‍लीन के लिए एक समय में एक क्षेत्र खोलकर अपने बच्चे को बॉडी वॉश दें। त्वचा और आँखों के लिए कोमल हल्के बेबी वॉश का प्रयोग करें।

  • कान और गर्दन के पीछे की सिलवटों पर ध्यान देते हुए, अपने बच्चे के पूरे चेहरे को पोंछें।
  • प्रत्येक आँख के लिए नई रुई के टुकड़े से, आँखों को अंदर के कोने से धीरे से पोंछें।
  • नम रूई की कली से सावधानी से प्रत्येक नथुने के अंदर पोंछें।
  • बच्चे के नितम्‍ब से बैक्टीरिया फैलने से रोकने के लिए आगे से पीछे की ओर पोंछते हुए जननांग क्षेत्र को साफ करें।

गर्भनाल की देखभाल

अपने बच्चे की गर्भनाल पर विशेष ध्यान दें। जब तक यह ठीक होकर टूटकर गिर न जाए, इसे साबुन और पानी की सहायता से साफ रखें और पोंछकर सुखाएँ, फिर अपने बच्चे की नैपी को गर्भनाल के नीचे मोड़ दें ताकि सूखने में मदद मिल सके।

टब या बाल्टी में नहलाने के लिए आगे बढ़ना

आपका बच्‍चा लगभग 2-8 सप्ताह का हो जाने पर आप टब या बाल्टी में नहला सकती हैं। ऐसा करते हुए आपको कुछ बातों का ध्यान में रखना चाहिए।

  • बाल्टी या टब में केवल दो-तीन इंच पानी भरें।
  • अपनी कोहनी से पानी के तापमान की जाँच करें कि यह न ज्यादा गर्म और ज्यादा ठंडा हो।
  • जब तक कि आपका बच्‍चा अपनी पीठ सीधी करके बैठने न लगे अपने बच्चे के सिर, गर्दन और कंधों को एक हाथ से सहारा दें।
  • अपने बच्चे को टब में डालते समय, इस बात का ध्यान रखें कि सिर पानी से बाहर रहे।
  • नहाने के पानी में कोई साबुन या लिक्विड क्लीनर न मिलाएँ।
  • स्‍नान हो जाने के बाद, अपने बच्चे का शरीर पोंछकर सुखाएँ। बालों, सिलवटों और पहुँचने में मुश्किल जगहों जैसे कान के पीछे सुखाएँ।
  • नहलाने के बाद कीटाणुओं को दूर करने के लिए टब को डेटॉल एंटीसेप्टिक लिक्विड से कीटाणुरहित करें।

आपके बच्चे के स्वास्थ्य और स्वच्छता और ढेर सारी स्वस्थ किलकारी के लिए हर दो-तीन दिन में नहलाना बहुत अच्छा है।

अपने बच्‍चे की देखभाल के लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें। यहाँ दिए गए सुझाव सामान्य प्रकृति के हैं जो केवल नियमित स्वच्छता से संबंधित हैं।

अस्वीकरण: प्रकाशित विषयवस्तु ("विषयवस्तु") की सटीकता सुनिश्चित करने के लिए सभी उचित कदम उठाए गए हैं, हालांकि विषयवस्तु को किसी भी तरीके से चिकित्सा सलाह नहीं माना जाएगा। यह विषयवस्तु पेशेवर चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार के विकल्प के रूप में उपयोग किए जाने के अभीष्ट प्रयोजन हेतु नहीं है। कृपया किसी भी प्रकार की चिकित्सकीय सलाह और मार्गदर्शन के लिए किसी योग्य डॉक्टर से परामर्श करें। यह विषयवस्तु, व्यक्त या निहित किसी भी प्रकार की वारंटी के बिना प्रकाशित की जाती है। विषयवस्तु के अर्थ निर्वचन और उपयोग की जिम्मेदारी पाठक की होती है। किसी भी स्थिति में रेकिट बेनकिसर (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड या उसकी सहयोगी कम्पनियाँ विषयवस्तु के उपयोग से उत्पन्न होने वाले किसी भी नुकसान या अन्य परिणाम के लिए उत्तरदायी नहीं होंगी।

हमारी विशेषता