मुख्य विषयवस्तु में जाएं
none

प्राथमिक उपचार और घाव की देखभाल

छोटे-मोटे और मामूली घावों में संक्रमण रोकने के लिए और हानिकारक कीटाणुओं से अपने परिवार के स्वास्थ्य की रक्षा करने के लिए डेटॉल एंटीसेप्टिक लिक्विड का इस्‍तेमाल करें।

कीटाणुओं को मारने और घाव का संक्रमण रोकने के लिए सरल प्राथमिक उपचार

जब बच्चा चलना शुरू करता है तो हर माता-पिता का सबसे बुरा दुस्‍वप्‍न होता है पहली बार गिरना और उसके बाद बार-बार गिरना। यहाँ तक ​​कि वयस्कों में, कभी-कभार कभी-कभी चोट लगना और कट-पिट जाना हमारी रोजमर्रा की जिंदगी का अभिन्न अंग होता है। इस प्रकार संक्रमण दूर करने और उपचार प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए प्राथमिक चिकित्सा की जानकारी होना जरूरी है।

प्राथमिक चिकित्सा क्यों महत्वपूर्ण है?

हमारी त्वचा कीटाणुओं और रोगाणुओं के विरूद्ध हमारे शरीर की रक्षा की पहली पंक्ति है। जब आपको कोई चोट लग जाती है और कट-छिल जाता है, तो आपका रक्तप्रवाह कीटाणुओं से संपर्क में जाता है। इस तरह कटने-छिलने के कारण रक्त और ऊतक संक्रमण के लिए आदर्श प्रजनन स्थल बन जाते हैं।

घाव संक्रमित हो जाते हैं जब:

  • आमतौर पर पर्यावरण में और हमारे शरीर पर आबाद कीटाणु खुले घाव से हमारी शारीरिक प्रणाली में प्रवेश कर जाते हैं
  • घाव न धुले हाथों, गंदगी, जंतुओं या सामान्य रूप से अशुद्ध वातावरण के संपर्क में आ जाता है

घाव का संभावित संक्रमण कई कारकों पर निर्भर करता है और इसी तरह संक्रमण की दर भी। इनमें से कुछ कारक घाव का प्रकार, उस घाव का स्थान और गहराई, संक्रमित क्षेत्र में रक्त की आपूर्ति, आसपास के क्षेत्र में संदूषकों की संभावित उपस्थिति और प्रकार और संक्रमण के प्रति शरीर की प्रतिरक्षा क्षमता है। कुछ संक्रमण काफी गंभीर प्रकृति के हो सकते हैं (जैसे एमआरएसए के कारण होने वाले संक्रमण) और इस तरह सामान्य एंटीबायोटिक दवाओं से उनका उपचार नहीं किया जा सकता है। घाव का समय पर इलाज नहीं किए जाने से उसके संक्रमित हो जाने पर गंभीर जटिलताएँ पैदा होती हैं। इसलिए संक्रमण दूर करने और ठीके होने की प्रक्रिया शुरू होने के लिए एंटीसेप्टिक्स के रूप में प्राथमिक चिकित्सा एक परम आवश्यकता है।

नीचे दी गई बातों का पालन करके छोटे-मोट और मामूली घावों का प्राथमिक उपचार किया जा सकता है:

  • खुले घाव के संपर्क में आने से पहले और बाद में हाथों को एंटीबैक्‍टीरियल साबुन से धोकर तौलिए से अच्छी तरह सुखाया जाना चाहिए।
  • घाव को बहते पानी के नीचे या कम एंटीसेप्टिक की मात्रा वाले लिक्विड से साफ किया जाना चाहिए।
  • घाव के आसपास के क्षेत्र को पोंछकर सुखाया जाना चाहिए।
  • घाव को हवा के संपर्क में खुला नहीं छोड़ा जाना चाहिए और नियमित रूप से बदली जाने वाली पट्टी से ढंका जाना चाहिए।
  • हाथ को अच्छी तरह से धोने के तौर-तरीकों का पालन किया जाना चाहिए।

अगर घाव में थक्के जमने के लक्षण नहीं दिखाई देते हैं और खून बहता रहता है, तो संक्रमण के लक्षणों की जाँच करें जो लालिमा और सूजन के रूप में होती है और तुरंत चिकित्सीय सहायता प्राप्‍त करें।

हमारी विशेषता