मौसम परिवर्तन के समय लोगों के बीमार पड़ने का कारण!

मौसम के बदलने के साथ ही बहुत से लोग बुखार और सर्दी से पीड़ित हो जाते हैं! हम समझते हैं कि यह सामान्यतः मौसम और तापमान में बदलाव के कारण होता है! हालांकि, एक्सपर्ट्स के मुताबिक़ तापमान में बदलाव बीमार होने का मुख्य कारण नही है! तापमान में बदलाव असल में वायरस के नए समूह को अनुमति देता है, और यही वायरस लोगों की बीमारी का कारण बनते हैं!

फ्लू के लक्षण

तब समझ में आते हैं जब वायरल फीवर के साथ जुकाम आता है! फ्लू के लक्षण अत्यधिक गंभीर हो जाते हैं जिसका कारण होता है इन्फ्लुएंजा इन्फेक्शन जो गले, फेफड़े और नाक को प्रभावित करता है! फ्लू के लक्षण में सामान्यतः शामिल है  

  • बुखार
  • छींक आना
  • गले में खराश
  • बहता नाक
  • खांसी
  • मतली और उल्टी
  • थकान
  • शरीर में दर्द
  • सरदर्द

फ्लू का अनुबंध करने वाले अधिकांश लोग वास्तव में घर पर खुद का इलाज कर सकते हैं और डॉक्टर को दिखाए बिना ये किया जा सकता है! हालांकि, यदि आप फ्लू के लक्षणों को देख रहे हैं और जटिलताओं का खतरा है, तो नियत समय में अपने चिकित्सक को दिखायें। लक्षणों को नोटिस करने के पहले दो दिनों के भीतर एंटीवायरल दवा लेने से आपकी बीमारी की लंबाई कम हो सकती है और अधिक-गंभीर समस्याओं को रोकने में मदद मिल सकती है।

बीमार होने से बचने का सबसे अच्छा संभव तरीका एक अच्छी स्वच्छता का पालन करना है। डेटॉल डिसइन्फेक्टेंट लिक्विड के नियमित इस्तेमाल से और डेटॉल लिक्विड हैंडवाश या डेटॉल बार साबुन से नियमित अंतराल पर हाथ धोने से आसपास का वातावरण साफ रहता है। इसके अलावा, एक स्वस्थ जीवन शैली जिसमें स्वस्थ और पौष्टिक भोजन, पर्याप्त व्यायाम और कम से कम 6 से 8 घंटे की आरामदायक नींद भी समान रूप से महत्वपूर्ण है।

फ्लू उन जगहों पर विशेष रूप से आसानी से फैलता है जहां लोग घूमते हैं। स्कूल, कार्यालय भवन, ऑडिटोरियम, सार्वजनिक परिवहन, स्टेशन आदि जैसी जगहें, पीक फ्लू के मौसम में भीड़ से बचने की कोशिश करनी चाहिए, क्योंकि यह संक्रमण की संभावना को कम करने में आपकी मदद करेगा।

बुखार कम होने के बाद कम से कम एक दिन के लिए घर पर रहें, क्योंकि इससे दूसरों को संक्रमित करने की आपकी संभावना कम हो जाएगी। इसके अलावा, यदि आप खांसी से पीड़ित हैं, तो छींक या खांसी होने पर अपना मुंह और नाक ढक लें। इससे आपको अपने हाथों को दूषित होने से बचाने में मदद मिलेगी। दूसरों के बीच फैलने से बचने के लिए आपको एक ऊतक या एक नैपकिन में खाँसी या छींकना चाहिए। जब आप बाहर हों तो कीटाणुओं को हटाने के लिए और पास में पानी या तरल हैंडवॉश की कमी हो, तो आप डेटॉल हैंड सेनिटाइज़र का उपयोग कर सकते हैं, जो विशेष रूप से 100 से अधिक बीमारी पैदा करने वाले कीटाणुओं से बचाने के लिए तैयार किया गया है।

अच्छी स्वच्छता का अभ्यास करके आप मौसम परिवर्तन के दौरान फ्लू से संपर्क करने से बच सकते हैं, जिसमें शामिल हैं:

  • नियमित रूप से हाथ धोना
  • सुरक्षित पानी पीना और हाइड्रेटेड रहना
  • यदि आवश्यक हो तो बाहर की तरफ एयर मास्क और दस्ताने का उपयोग करना
  • व्यक्तिगत नैपकिन या ऊतकों को ले जाएं