Breadcrumbs

गर्भावस्था के दौरान स्वस्थ रहना

भोजन स्वच्छता, मॉर्निंग सिकनेस तथा सर्दी-जुकाम व फ्लू से बचना

जब आप गर्भवती होते हैं तो आपकी प्रतिरक्षी प्रणाली स्वाभाविक रूप से कम हो जाता है और आपके बीमार पड़ने की संभावना बढ़ जाती है, यही कारण है कि इस दौर में खुद का ज्यादा ख्याल रखना जरूरी हो जाता है। यहां गर्भावस्था के दौरान बीमारियों से बचने के लिए हमारी गाइड दी गई है और साथ ही आमतौर से होने वाले मॉर्निंग सिकनेस से निजात पाने के टिप्स भी दिए गए हैं।

मॉर्निंग सिकनेस से आप क्या उम्मीद कर सकते हैं?

गर्भावस्था के शुरुआती दौर में मितली और उल्टी का एहसास सामान्य मॉर्निंग सिकनेस माने जाते हैं। मॉर्निंग सिकनेस बिल्कुल सामान्य बात होती है और इसके नाम के बावजूद यह दिन के (या रात में) किसी भी समय हो सकता है। इस प्रभाव को कम करना:

आराम करें: कामकाज से नियमित रूप से विराम लें क्योंकि थकावट से मितली का एहसास और ज्यादा बढ़ सकता है।

तरल पदार्थ पिएं: थोड़ा-थोड़ा पानी पिए और शरीर में बिना अधिक पानी की मात्रा लिए जल का आवश्यक स्तर बनाए रखें।

खानपान: उच्च कार्बोहाइडेट और कम वसा वाले स्वास्थ्यकर आहारों की अल्प मात्रा लें।

ठंडा भोजन लें: ठंडा भोजन गर्म भोजन के मुकाबले बेहतर हो सकता है, क्योंकि वे कम गंध छोड़ते हैं।

स्वच्छता की बेहतर आदतें अपनाएं: इस बात का ध्यान रखें कि मॉर्निंग सिकनेस के हर दौरे के बाद अपने हाथ धोएंगी ताकि कीटाणु को फैलने से रोका जा सके।

  • कच्चे भोजन को पके और तैयार भोजन से अलग रखें।
  • भोजन निर्माण तथा खाने वाले स्थानों से अपने पालतू जानवरों तथा अन्य जानवरों को दूर रखें।

गर्भावस्था के दौरान आहार तथा भोजन की स्वच्छता

गर्भावस्था की पहली अवस्था से ही आपको अपने खानपान तथा भोजन तैयार करने के तरीके के बारे में सावधान रहना होगा। गर्भावस्था से आप कुछ बैक्टीरिया तथा संक्रमणों के प्रति ज्यादा संवेदनशील हो जाते हैं, जिसका आपके और आपके नवजात शिशु के स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव पड़ सकता है, इसलिए उत्तम आहार तथा स्वच्छता को अपनाना आवश्यक हो जाता है।

यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप अपने शिशु को हर संभव सर्वोत्तम स्टार्ट देंगी, इस बात का ध्यान रखें कि आपका आहार एक स्वास्थ्यकर व संतुलित आहार हो आप निम्नलिखित चीजों से बचेंगी:

  • सॉफ्ट तथा अनपाश्च्युराइज्ड चीज और डेयरी
  • कच्चे तथा अनपके
  • एक दिन में 200 मि.ग्रा कैफीन (इंस्टांट कॉफी के दो मग के बराबर)‌ से अधिक की मात्रा न लेने का प्रयास करें।

खुद और अपने शिशु पर होने वाले नुकसान को कम करने के लिए, आपको अपने भोजन तैयार करने के तरीके को लेकर भी अधिक सावधान होना होगा।

हाथों की स्वच्छता
भोजन पकाने या खाने से पहले तथा बाद में अपने हाथों को साबुन और पानी से धोएं। यदि साबुन और पानी उपलब्ध न हो तो आप डेटॉल हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें जो 99.9% कीटाणुओं का सफाया करता

कच्चा भोजन
खाना तैयार करने समय कच्चे भोजन को लेकर ज्यादा सावधान रहें- कच्चे मांस, मछ्लियों तथा अंडे में कीटाणु पाए जाते हैं जो रसोई की सतहों पर आसानी से फैल सकते हैं।

भोजन की कटाई और पकाया जाना
उन बरतनों और चॉपिंग बोर्ड्स को आप साफ कर लें जिन्हें आपने डिटर्जेंट से धोया हो, उन्हें गर्म पानी से धो लें। सतहों को डिसइंफेक्टेंट और एक डिस्पोजेबल कपड़े से पोंछें। फिर से इस्तेमाल होने वाले कपडें भी सही होते हैं, पर याद रखें कि आप उन्हें नियमित रूप से साफ और कीटाणुमुक्त रखती हों।

भोजन से निकलने वाले कचरे
हमेशा बिन लाइनर्स का इस्तेमाल करें और बिन के खाली होने के बाद उसे कीटाणुमुक्त करें। और एक आम नियम के तौर पर अपने बिन के ढक्कन को बंद रखें ताकि उसके ऊपर मक्खियां या कीड़े न आ पाएं।

गर्भावस्था के दौरान सर्दी-जुकाम तथा फ्लू

आपको सर्दी-जुकाम तथा फ्लू के बारे में बताए जाने की जरूरत नहीं है- बहुत संभावना है कि पहले आपको सर्दी-जुकाम, गले की खराश पेशियों में ऐंठन और फ्लू का बुखार हुआ हो। उत्तम स्वच्छता से आपके हाथों पर सर्दी-जुकाम तथा फ्लू के वायरस आने से रोकने में मदद मिलेगी।

  • अपने हाथों को बार-बार साबुन और पानी से धोएं या किसी सेनिटाइजर का इस्तेमाल करें।
  • यदि पानी तुरंत उपलब्ध न हो तो आप डेटॉल मल्टी-यूज वाइप्स या हैंड सेनिटाइजर का इस्तेमाल करें।
  • सतहों को नियमित रूप से साफ और कीटाणुमुक्त करें, खासकर नलों, दरवाजों के हैंडलों तथा स्विचों को।
  • ऐसे लोगों के निकट संपर्क से बचे जिन्हें सर्दी-जुकाम तथा फ्लू हुआ हो।
  • खांसते और छींकते समय अपने मुंह और नाक को किसी टिश्यू से ढंक लें।
  • इस्तेमाल किए हुए टिश्यू को डस्टबिन में डालें और उसके बाद अपने हाथों को अच्छी तरह से साफ कर लें।

अपने शिशु की देखभाल के लिए कृपया अपने डॉक्टर से संपर्क करें। यहां दिए गए सुझाव सामान्य स्वच्छता से जुड़े केवल आम तरह के सुझाव हैं।