Breadcrumbs

हर आधुनिक माँ को पांच नई चुनौतियों का सामना है

आज की दुनिया में मां होना कोई आसान काम नहीं है। हम पहले से ही सामान्य मातृत्व समस्याओं से निपटने के लिए वास्तव में कड़ी मेहनत कर रहे हैं, जैसे कुछ ना भी हो तब भी हमारे बच्चे शिकायत करते हैं और बड़ी संख्या में जिज्ञासु वाले सवाल करते हैं। और अब जटिलता का एक और स्तर हमारे लिए पेश किया गया है: प्रौद्योगिकी! सभी इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के लिए धन्यवाद, आजकल बच्चे डिजिटलाइज़ड बचपन की ओर जा रहे हैं और एक डिजिटल संतृप्त वातावरण में बड़े हो रहे हैं।

हमारे लिए मातृत्व बेहद अलग है उससे जो कभी हमारी मां के लिए हआ करता था। तेजी से बदलते और व्यस्त जीवन शैली हमारे लिए नए और अनूठे दबावों पैदा कर रहा है विशेष रूप से कामकाजी माताओं के साथ मातृत्व कभी भी आसान नहीं रहा है, और चुनौतियों का हमेशा सामना करना पड़ा है। लेकिन आज प्रौद्योगिकी जैसी स्थितियों के संयुक्त मांग, तेजी से बदल रहे परिवार की गतिशीलता, 24/7 जानकारी का चक्र और एक दूसरे को पीछे छोड़ने की शिक्षा प्रणाली का सामना है।

आधुनिक दौर के माताओं के रूप में यहाँ हमारे सामने कुछ मुद्दे हैं:

  • समय की कमी: मां की जिंदगी आसान नहीं है। अपने नन्हे के साथ आधी रात तक जागने के बाद हम सुबह सवेरे जल्दी उठते हैं और काम पर जाते हैं। उसके बाद घऱ वापस आने के बाद रात का खाना पकाना, घऱ की सफाई और बिस्तर पर जाने से पहले घऱ की सफाई और कपड़े धोना। हम थक जाते हैं, दबाव महसूस करते हैं और हम पेशेवर और निजी जीवन के बीच झूलते रहते हैं। नतीजतन बच्चे लगभग सब कुछ तक पहुंच जाते हैं और समय के साथ ज्यादातर अपने दम पर कर रहे होते हैं। जिसके कारण उनमें असुरक्षा और अकेलेपन की भावना पैदा होती है और व्यवहार में बदलाव आ जाता है।
  • प्रौद्योगिकी और मनोरंजन: पहले के दिनों में टेलीविजन देखने का मतलब किसी खास दिन निर्धारित समय पर एक निर्धारित शो देखना होता था, जब पूरा परिवार टीवी के सामने साथ बैठ जाया करता था। पीसी का उपयोग कुछ हम कभी कभी किया जाता था। तेजी से आगे बढ़े पन्द्रह-बीस सालों के बाद अब हम मातृत्व के आभासी दौर में हैं। नए युग के लिए धन्यवाद, वर्तमान मातृत्व दृष्टिकोण दूसरी चिंता जनक मुद्दों के साथ उच्च तकनीक भी लेकर आया है जहां बच्चों को हर तरह की सामग्री वेब पर प्राप्त है।
  • अच्छे संस्कार सिखाने के लिए संघर्ष: Wजब हम बड़े हुए, हमारा ख्याल रखने के लिए हमारे दादा-दादी मौजूद थे और जब हमारे माता-पिता बाहर होते थे तो वे अच्छे संसकार देते थे। फिर परमाणु परिवार की अवधारणा आयी, जहां परिवार छोटा हुआ जिसमें कोई दादा-दादी घर पर नहीं होता है, बच्चे ज्यादा तर अपना काम खुद ही करते हैं। मीडिया और सामग्री के लगभग सभी अनफ़िल्टर्ड प्रकार के उपयोग के साथ हमारे बच्चे यह समझने लगे हैं कि यह चीजें सामान्य बात है और अपनी जिंदगी भी स्वं इसी प्रकार जीना चाहते हैं। और फिर हम उन्हें नैतिक मूल्य जगाने के लिए सिखाने के लिए संघर्ष करते हैं।
  • हमारे बच्चे को स्वस्थ रखना: हमारी तरह क्रिकेट या पड़ोस के दूसरे बच्चों के साथ बाहरी खेल खेलना अब हमारे बच्चों की जिंदगी का हिस्सा नहीं रहा। और इसके लिए खुद हम जिम्मेदार हैं। हमने उन्हें वीडियो गेम, टीवी, और कंप्यूटर उपलब्ध करा दिया है। नतीजतन, वे बाहर जाने के बजाय घर के अंदर रहना पसंद करते हैं, जिसके कारण स्वास्थ के दिगर मुद्दों के साथ कम उन्मुक्ति, मोटापा, सामाजिक अलगाव आदि का शिकार हो जाता है। घर के भीतर रहने विशेष रूप से बच्चों के प्राकृतिक प्रतिरोधक क्षमता का विकास प्रतिबंधित करता है। इसलिए आज वे अधिक कई कीटाणुओं और आज के प्रदूषित वातावरण में प्रचलित बीमारियों का शिकार होते हैं।
  • विकसित कीटाणुओं का प्रसार: पिछले एक दशक में या इसी प्रकार, न केवल प्रदूषण और धूल कणों की मात्रा कई गुना बढ़ गई है बल्कि वातावरण में कीटाणुओं का प्रचलित भी काफी विकसित हुआ है। इन रोगाणुओं का इलाज अधिक कटिन हो गया है और इस पर काबू पाना और भी मुश्किल हो गया है, जिससे यह संक्रमण और इस तरह के कीटाणुओं की वजह से अन्य समस्याओं से लड़ना मुश्किल बना रही है पर्यावरण के ये मुद्दे वास्तव में डरावना हैं, खासकर जब यह हमारे बच्चों के स्वास्थ्य से संबंधित हो।

उनके आस-पास बदलते वातावरण से हमारे बच्चों की रक्षा के लिए यह आव्यशक हो गया है कि हम अपनी जीवन शैली में बदलाव लाएं। बच्चों के मानसिक विकास के लिए हमारी दिनचर्या और रूटीन में थोड़ा बदलाव करें जैसे उनके साथ अधिक समय बिताना, उनकी बातों को हमेशा सुनना और उनकी बातों को समझने की कोशिश करना और भी अधिक महत्वपूर्ण हो गया है। जहां तक उनके शारीरिक स्वास्थ्य और स्वच्छता का संबंध है, बच्चों को बाहर लापरवाही के साथ खेलने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए इसलिए कि साबुन और लिक्विड हैंड वाश में डिटोल का गोल्ड रेंज प्रमुख रोगाणु संरक्षण साबुन के मुकाबले उन्हें 100% बेहतर सुरक्षा देता है। बदलते समय के साथ हमारे बच्चों की सुरक्षा के तरीके भी बदलना चाहिए।