अपने बच्चे को स्नान कराना

बच्चे के पहले स्पंज और टब स्नान के लिए मदद

अपने बच्चे को स्नान कराना

अपने बच्चे को स्नान कराना

आप अपने बच्चे को स्पंज से स्नान करवा रहे हो, या अपने बच्चे को स्नान करने के लिए बच्चे को बेबी बाथ या बाउल का उपयोग कर रहे हैं, स्नान का समय आपके लाडले बच्चे के स्वास्थ्य और स्वच्छता के लिए महत्वपूर्ण होता है। इसमें मज़ा भी बहुत आता है।

क्या स्नान के समय के लिए तैयार हैं?

आप अपने बच्चे को स्पंज से स्नान करवा रहे हो, या अपने बच्चे को स्नान करने के लिए बच्चे को बेबी बाथ या बाउल का उपयोग कर रहे हैं, स्नान का समय आपके लाडले बच्चे के स्वास्थ्य और स्वच्छता के लिए महत्वपूर्ण होता है। इसमें मज़ा भी बहुत आता है।

जैसे बतख को पानी से लगाव होता है उसी तरह बच्चों को स्नान से लगाव होता है। यह उनकी दिनचर्या बनाव। कमरे में एक आरामदायक तापमान बनाकर रखिये क्योंकि बच्चों का शरीर जल्दी से गर्मी खोता है और इसलिए सुनिश्चित करें कि आप की जरुरत की सभी चीजें आप के पास है।

आपके बच्चे का स्पंज से स्नान करवाना

गर्भनाल गांठ जब तक भर नही जाती आप बच्चे को 'स्पंज' से स्नान करना चाहोगे। इस प्रक्रिया को आमतौर पर एक सप्ताह से 10 दिन लगते है, लेकिन गर्भनाल गांठ आठ सप्ताह तक जुडी रह सकती है।

बच्चे को गर्म रखने के लिए उसके शरीर को एक तौलिया में लपेटकर रखें और धीरे धीरे अपने बच्चे के शरीर के भाग स्पंज करेंके धो लें। एक हल्के बेबी वाश से बच्चे की कोमल त्वचा और उसकी आंखों को धो लें।

  • अपने बच्चे के पूरे चेहरे को साफ कर लें, कान और गर्दन के पीछे की रेखाओं की ओर ध्यान दे।
  • रूई का एक ताजा टुकड़ा का उपयोग करके धीरे से अंदर के कोने से बाहर आँखें पोंछे।
  • एक सिक्त रूई कली का उपयोग करते हुए ध्यान से बच्चे के नथुने के अंदर साफ कर लें।
  • जननांग क्षेत्र साफ़ करें सामने से पीछे तक पौंछते लाये ताकि बच्चे के पिछवाड से बैक्टीरिया न फैले।

गर्भनाल की देखभाल

अपने बच्चे के गर्भनाल पर विशेष ध्यान दे। जब तक यह भर कर और गिर नही जाता है, इसे साबुन और पानी से साफ़ रखें, हाथ से सुखा करें और अपने बच्चे के लंगोट गर्भनाल के निचे रखे ताकि इसे सूखने में मदद मिल सके।

टब स्नान या बाल्टी स्नान के लिए आगे बढ़ते हुए

जब आपका बच्चा 2-8 सप्ताह का हो जाता है तब आप टब या बाल्टी से स्नान कर सकते हैं।

  • पानी के दो एक इंचो का प्रयोग करें।
  • अपनी कोहनी से पानी का तापमान जांचे यह न बहुत गर्म या ना ही बहुत ठंडा होना चाहिए।
  • एक हाथ से अपने बच्चे के सिर, गर्दन और कंधों को आधार दीजिये जब तक वे सीधे पीठ करके बैठ नहीं सकते तब तक।
  • स्नान के बाद कीटाणुओं को हटाने के लिए डेटॉल एंटीसेप्टिक लिक्विड के साथ टब को कीटाणुरहित करें।

हर दो दिन में बच्चे को स्नान करवाना आपके बच्चे के स्वास्थ्य और स्वच्छता के लिए अच्छा होता है और उसकी स्वस्थ हँसी के लिए भी।

अपने बच्चे की देखभाल के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें। यहाँ दिए गए टिप्स दिनचर्या स्वच्छता से संबंधित सामान्य प्रकार के हैं।