The vital role of hygiene in your daily life | Lysol®
Breadcrumbs

अपने दैनिक जीवन में स्वच्छता

हम सब जानते हैं कि हम रोज़ाना स्वास्थ्य के आने वाले जोखिम से पूरी तरह से अवगत हैं, और इसने स्वच्छता को हमारे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा बना दिया है। असल में, बर्ड फ्लू और स्वाइन फ्लू जैसे नई दुनिया के विशाल रोगों को स्वच्छता की कमी के साथ संबद्ध किया गया है। हम आज बेहतर स्वच्छता बनाए रखने की दिशा में काम करते हैं, तो इससे निश्चित रूप से आने वाली पीढ़ी को मदद मिलेगी।

स्वच्छता एक आदत है जिसे महत्व दिया जाना चाहिए और कम उम्र से ही बच्चों में इसकी शुरुआत की जानी चाहिए। स्वच्छता सिर्फ हमारे शरीर के बारे में नहीं होना चाहिए; इसे हमारे परिवेश को अच्छा बनाए रखने पर भी ध्यान देना चाहिए।

हम देखते हैं कि हम कैसे अच्छी तरीके से स्वच्छता बनाए रख सकते हैं:

  • आत्म स्वच्छता के लिए संकल्प लेना

भारत में कठोर मौसम की स्थिति को ध्यान में रखते हुए, स्वच्छ रहना और अपने प्रियजनों को स्वच्छता के महत्व की शिक्षा देना बेहद जरूरी है। एक भारतीय होने के नाते, हमने हमेशा स्वच्छता के बारे में अपनी कमी देखी है और यह उचित समय है कि हम उस धारणा को बदल दें।

कुछ सुझावों पर नजर डालते हैं जिनसे आपको स्वच्छ रहने में मदद मिलेगी:

  • सुनिश्चित करें कि आप एक प्रतिदिन पर दो बार अपने दांतों को ब्रश करें। चिकित्सकीय स्वच्छता बहुत महत्वपूर्ण है क्यूंकि आपके दाँत आसानी से क्षतिग्रस्त हो सकते हैं अगर ठीक से देखभाल नहीं करें तो
  • सुनिश्चित करें कि आप दैनिक स्नान करें, और मौसम की स्थिति पर निर्भर होते हुए, दो बार स्नान करने से परहेज़ न करें, अगर ज़रूरी लगे। स्नान वास्तव में महत्वपूर्ण है, विशेष रूप से एक शहर जहां नमी और प्रदूषण बैक्टीरिया को तेजी से जन्म देती है।
  • एक क्लिनिकल मास्क पहनें अगर आप अत्यधिक प्रदूषित क्षेत्रों की यात्रा कर रहे हैं। एक नियमित आधार पर प्रदूषकों के संपर्क में आना आपके शरीर में विष का स्तर बढ़ाकर श्वसन समस्याओं को जन्म दे सकता है।
  • हमेशा धुले हुए कपड़े पहनें। एक ही अनधुले कपड़े पहनना त्वचा रोग की विविधता बढ़ा सकते हैं। आप अपने कपड़े धोने के लिए मल्टी यूज़ हाइजीन लिक्विड का प्रयोग कर एक अतिरिक्त सुरक्षा लेयर जोड़ सकते हैं
  • हमेशा अपने गुप्तांग बेहद साफ रखें। बैक्टीरिया और संक्रमण के लिए वहां से प्रसार करना बहुत आसान है।
  • नियमित अंतराल में अपने हाथ धोयें। हम कई अशुद्ध स्थानों को लगभग हर कुछ मिनट में छूते हैं।

हमें समझना है कि कैसे हम अपने आस-पास के वातावरण को स्वच्छ रख सकते हैं:

  • अपशिष्ट का निपटान तुरंत करें। अगर अपशिष्ट पदार्थ ठीक से संभाला नहीं गया तो यह निमोनिया, पीलिया, और तपेदिक जैसी घातक बीमारियों का प्रकोप बढ़ा सकता है। इतिहास गवाह है कि महामारी का सबसे बड़ा कारण अनुचित अपशिष्ट निपटान रहा है।
  • हमेशा अपने घर को साफ रखें। अपने शौचालय और किचन को रोगाणुमुक्त रखें। अत्यधिक प्रभावी किचन जैल बाजार में उपलब्ध हैं जो सफाई और कई सतहों को जीवाणु-रहित करने में मदद करते हैं। जो त्वचा परीक्षण किये गए और हाथों पर सुरक्षित हैं, उन्हें चुनें।
  • पास के रिहायशी इलाकों में अपशिष्ट निपटान न करें
  • कभी सार्वजनिक स्थानों पर न थूकें न पेशाब करें।