Breadcrumbs

वायु प्रदूषण से बचने के लिए टिप्स

वायु प्रदूषण से बचने के लिए टिप्स

वायु प्रदूषण से बचने के लिए टिप्स

यातायात और वाहन भीड़ की वजह से भारत में वायु प्रदूषण एक प्रमुख मुद्दा बन गया है। ऑटोमोबाइल क्षेत्र में 100 प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के उदारीकरण के बाद से भारतीय सड़कों पर वाहनों की संख्या अब 30 लाख से अधिक हो गयी है

समस्या को बढ़ने में इंधन लकड़ी और बायोमास भी बढ़त के कारक सिद्ध हुए है। जिस दर से शहरी वायु प्रदूषण बढ़ गई है वास्तव में खतरनाक है। भारत के ज्यादातर शहरों की हवा विषाक्त हो गई है जो हवा की गुणवत्ता के बुनियादी स्वास्थ्य मानकों से नीचे चली गयी है । नाइट्रोजन और आक्साइड जैसे नए प्रदूषण के साथ हवा विषाक्त हो चली है।

चलें अब हम इन प्रदूषकों का आप पर पड़ने वाले प्रभाव को समझते हैं:

लघुकालिक: प्रदूषित हवा का तत्काल प्रभाव अपनी नाक, गला, आंख, और फेफड़ों के द्वारा वहन किया जाता है। इससे आपको एलर्जी और संक्रमण हो सकती है जो प्रकृति में आसानी से संक्रामक होती हैं।

दीर्घकालिक: रिसर्च में कहा गया है कि वायु प्रदूषण के साथ नियमित रूप से संपर्क से फेफड़े के रोगों की जोखिम रह सकती हैं, विशेष रूप से बच्चों और बुजुर्गों में। वायु प्रदूषण बच्चों के फेफड़ों की क्षमता 20 प्रतिशत से कम कर सकते।

अब, अपने आप को बचाने के लिए जो सावधानियां बरत सकते है उन पर नजर डालते हैं।

जब घर के अंदर है:

  • धुआं के प्रवेश की गति को कम करने के लिए अपने दरवाजे और खिड़कियां बंद रखें। अगर आप देखते हैं कि आप के आसपास का क्षेत्र धुआं मुक्त है, तो खिड़कियां खोल कर घर के अंदर के हवा की गुणवत्ता में सुधार करने का अवसर ले। आप खिड़की की जाली स्क्रीन लगा सकते है जो न केवल धूल कणों और पराग के खिलाफ एक इष्टतम फिल्टर के रूप में कार्य करेगा , बल्कि कीड़ों को अपने घर से बाहर रखने में भी प्रभावी हो सकते हैं।
  • अगर आप एक अत्यधिक प्रदूषित क्षेत्र में रहते हैं, तो आप नियमित रूप से स्वच्छ हवा के वातावरण में जाएँ। आप एक पार्क या बगीचे में जा सकते है और गहरी साँस लेने का व्यायाम कर सकते हैं अगर पर्यावरण प्रदूषित नहीं है तो।
  • आप पिस लिली, गुलदाउदी, गोल्डन पोथोस , और इंग्लिश आइवी जैसे हवा शुद्ध करने वाले पौधों को घरके अन्दर लाकर अपने घर की सजावट कर सकते है, उसका आकर्षण बढ़ा सकते है और घर के अन्दर के प्रदूषण को कम कर सकते है।
  • नमी में धूल के कण और फफूंदी पैदा होती है। इसलिए, आसपास की नमी 30%-50% बनाये रखने की कोशिश करें जो उन्हें और अन्य एलर्जी को नियंत्रण में रखती है।

जब घरके बाहर हो:

  • कम से कम वाहन चलाने की कोशिश करो। चलते जाओ, साइकिल चलाओ, सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करो, या कार्यस्थल पर पहुचने के लिए कारपूलिंग का उपयोग करो। अगर आपका कार्यालय आपको घर से काम करने के लिए विकल्प देता है, तो इसका फायदा जरुर लें । इससे न केवल पैसे की बचत होगी, बल्कि इससे वायु प्रदूषण को कम करने में भी मदद मिल सकती हैं।
  • चरम वायु प्रदूषण के मामले में, बाहर कसरत करने से बचने की कोशिश करें। इसका कारण यह है आप कसरत करते है तब भारी साँस लेते है जिससे आप अधिक धुल कणों को सांस के जरिये अन्दर लेते है।
  • सुनिश्चित करें कि आपकी कार की हवा फिल्टर नियमित रूप से प्रतिस्थापित की जा रही हैं।
  • जब भी आप घरके बाहर जा रहे है तब एक पुन: प्रयोज्य हवा मुखौटा पहने क्यों की साधारण कागज और कपड़े का मास्क प्रदूषण के इस तरह के उच्च स्तर से रक्षा नहीं कर सकते है।
  • भविष्य कहनेवाला आउटडोर प्रदूषण एप्प डाउनलोड करें जो आपको अग्रिम में दो दिनों को अपने शहर के हवा की गुणवत्ता के बारे में जानकारी देता है । यह आपको कब और कैसे बाहर की हवा से निपटने के बारे में बेहतर निर्णय लेने में मदद करेगा।