बनेगा स्वच्छ भारत 2016 - डेटॉल

बनेगा स्वच्छ भारत 2016

डायरिया से हर मिनट एक बच्चे की मौत होती है। इन मौतों को हाथ धोने की सरल आदत से रोका जा सकता है। कृपया इस संदेश को फैलाइए और करोड़ों जिंदगियों को बचाने में मदद कीजिए।

बनेगा स्वच्छ भारत

अपने बच्चे को सुरक्षित रखने के लिए आप हर कुछ करते हैं।

आप उन्हें छोटी-छोटी अच्छी आदतें सिखाते हैं।

पर दुनिया भर में हर मिनट एक माता-पिता डायरिया जैसे रोग से अपने बच्चे को खो देते हैं, जिसे रोका जा सकता था।

उपाय आसान है: साबुन से हाथ धोकर

भले ही हाथ धोना हमारे जीवन का रुटीन है पर हम प्रायः इसे सही से नहीं करते हैं। क्या आपको पता है कि सीडीसी (सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन) की सुझाव है कि व्यक्ति को साबुन से लगभग 20 सेकंड तक अपने हाथ धोने चाहिए?

ग्लोबल हैंड वाशिंग डे अभियान के अंग के रूप में, हम साबुन से हाथ धोन की अहमियत के बारे में जागरुकता फैलाने और इस बारे में खासकर छोटे बच्चों की आदत बदलने के एक अभियान पर हैं।

“डायरिया जैसे संक्रामक बीमारियों से हर वर्ष मरने वाले बच्चों की संख्या अभी भी बहुत ज्यादा है और यह वैश्विक संकट को जन्म देती है। हालांकि, अच्छी ख़बर यह है कि डायरिया को रोका जा सकता है और हाथ को स्वच्छ रखने की आदत एक ऐसा सरल उपाय है जिसे हम अपने और अपने परिवार को सुरक्षित रखने में अपना सकते हैं। कुछ जरूरी वक्तों में, जैसे कि टॉयलेट से आने के बाद तथा खाने से पहले, किसी कारगर साबुन से हाथ धोने से संक्रमण की श्रृंखला टूट सकती है और इन अनावश्यक मौतों पर लगाम लग सकती है।”

ग्लोबल हाइजीन काउंसिल के चेयरमैन प्रॉफेसर जॉन ऑक्सफोर्ड ने

गिव लाइफ ए हैंड में भाग लिया

बच्चे को अनावश्यक रूप से डायरिया से बीमार होने से बचाने में मदद करने के लिए हमारे साथ जुड़ें और साबुन से हाथ धोना एक आदत बनाएं।


डेटॉल का एक पैक खरीदकर अपना समर्थन दिखाएं। डेटॉल लिक्विड हैंडवॉश खरीदने पर बनेगा स्वच्छ इंडिया प्रयास के तहत हमारे स्कूल हैंड वॉशिंग प्रोग्राम के जरिए रु. 1 बच्चों को सही तरीके से हाथ धोना सिखाने में जाएगा।

हमारे स्कूल प्रोग्राम के बारे में अधिक जानकारी पाने के लिए यहां क्लिक करें।.